24x7 Taaza Samachar
देश को साल 2022 में मिलेगी नई सहकारी नीति : अमित शाह
Sunday, 26 Sep 2021 03:17 am
24x7 Taaza Samachar

24x7 Taaza Samachar

सहकारिता मंत्रालय राज्यों के साथ सहकार, सहयोग से चलेगा

सहकार से समृद्धि हमारा नया मंत्र

भारत के संस्कारों में है सहकारिता

ग्रामीण क्षेत्र में हर वंचित तक विकास को पहुंचाने जिम्मेदारी सहकारिता मंत्रालय की

इफको द्वारा निर्मित विशव के पहले नैनो तरल यूरिया की प्रशंसा की

 

Kolkata। केंद्रीय गृह मंत्री और देश के पहले सहकारिता मंत्री श्री अमित शाह ने कहा है कि सहकारी समितियों को जमीनी स्तर तक पहुंचाने का काम उनका मंत्रालय करेगा। भारत सरकार का सहकारिता मंत्रालय सभी राज्यों के साथ सहकार, सहयोग करके चलेगा। ये किसी राज्य से संघर्ष के लिए नहीं बना है। देश के पहले सहकारिता सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए श्री शाह ने कहा कि उन्हें गर्व है कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें पहला सहकारिता मंत्री होने का मौका दिया है। श्री शाह ने कहा कि सहकारिता को मजबूत करने की दिशा में सरकार नई सहकारी नीति लाएगी।

दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम में शनिवार को पहले सहकारिता सम्मेलन का आयोजन किया गया। श्री शाह ने स्टेडियम में मौजूद दो हजार से अधिक सहकारिता सहयोगियों और सोशल मीडिया के माध्यम से जुड़े करीब छह करोड़ लोगों को सहकारिता मंत्रालय के उद्देश्यों और सहकारिता से समृद्धि पाने के मूल मंत्र का अर्थ बताया। श्री शाह ने कहा, 'मैं सहकारिता मंत्री के नाते देशभर के नेताओं और कार्यकर्ताओं से कहना चाहता हूं कि अब लापरवाही का समय समाप्त हो गया है। प्राथमिकता का समय शुरू हुआ है। इसलिए सब साथ मिलकर सहकारिता को आगे बढ़ाएं।' श्री अमित शाह ने विश्व की नंबर एक सहकारी समिति इफको द्वारा निर्मित विश्व के पहले नैनो तरल यूरिया को सराहा। उन्होंने कहा कि नैनो तरल यूरिया कृषि क्षेत्र में बड़ा बदलाव लाएगा।

श्री अमित शाह ने कहा, 'भारत में सहकारिता आंदोलन कभी अप्रासंगिक नहीं हो सकता। यहां के विचारों, जनता के स्वभाव में सहकारिता घुल मिल गई है। ये कोई उधार लिया हुआ विचार नहीं है। सहकारिता आंदोलन भारत के ग्रामीण समाज की प्रगति करेगा और एक नई सामाजिक पूंजी की अवधारणा भी खड़ी करेगा। सहकारिता आंदोलन के ऐतिहासिक महत्व के बारे में श्री शाह ने कहा, 'मैं 25 साल तक सहकारिता आंदोलन से जुड़ा रहा हूं। देश पर जब-जब कोई विपदा आई है, सहकारिता आंदोलनों ने देश को बाहर निकाला है। कॉपरेटिव बैंक बिना मुनाफे की चिंता किए लोगों के लिए काम करते हैं। क्योंकि, भारत के संस्कारों में सहकारिता है।' प्रधानमंत्री जी के मन की इच्छा है कि छोटे से छोटे व्यक्ति को विकास की प्रक्रिया में हिस्सेदार बनाना, सहकारिता की प्रक्रिया से हर घर को समृद्ध बनाना और हर परिवार की समृद्धि से देश को समृद्ध बनाना, यही सहकार से समृद्धि का मंत्र है।

श्री शाह ने सहकारिता के क्षेत्र में अमूल लिज्जत का उदाहरण देते हुए कहा कि अमूल से जहां देश के करोड़ों किसान जुड़े हुए हैं तो लिज्जत पापड़ से हजारों महिलाओं को रोजगार मिला है। देश में सहकारिता को मजबूत करने के साथसाथ अब इसका आधुनिकीकरण भी करना है। श्री शाह ने कहा कि हमने तय किया है कि कुछ समय के अंदर नई सहकारी नीति जो पहले 2002 में अटल जी लेकर आए थें और अब 2022 में मोदी जी लेकर आएंगे और आजादी के अमृत महोत्सव में नई सहकारी नीति बनाने की हम शुरुआत करेंगे।

देश के विकास में सहकारिता के योगदान का महत्व बताते हुए श्री अमित शाह ने ये भी कहा कि भारत के 91 प्रतिशत गांवों में सहकारी सहमितियां हैं। देश की 5 ट्रिलियन की इकोनॉमी के लिए सहकारिता की जरूरत है। श्री अमित शाह ने कहा कि सहकारिता गरीबों और पिछड़ों के विकास के लिए है। आज सहकारिता से 36 लाख करोड़ परिवार जुड़े हुए हैं। सहकारिता भारत के संस्कारों में हैं, सबको साथ लेकर चलना है। गृहमंत्री ने कहा कि इफको ने गरीब क्रांति को एक नई दिशा देने का काम किया।

कार्यक्रम के दौरान राज्य मंत्री श्री बी. एल. वर्मा और इंटरनैशनल कोआपरेटिव एलांयस (ग्लोबल) के अध्यक्ष डॉ. एरियल ग्वार्को इफको के चेयरमैन सरदार लविंदर सिंह, इफको के प्रबंधन निदेशक श्री उदय शंकर अवस्थी, सहकारिता मंत्रालय के सचिव श्री देवेंद्र कुमार सिंह कृभको के चेयरमैन चंद्रपाल सिंह यादव सहित कई लोग मौजूद थे.